KAUN SAMAJHA HAI ISE?

ज़िन्दगी में कोई न कोई बात रह जाती है, दिन गुज़र जाता है तो रात रह जाती है । इश्क़ की गर्म ओ गर्मियां चार दिन की हैं, फिर तो सिर्फ यादों की बरसात रह जाती है । तेरी हँसी के फवारे थे मुखतसर लम्हों के लिए, उसके बाद ग़मों की बारात रह जाती है । हम ही हैं जो खुद को जहाँन समझते हैं, हमारे चले जाने पे भी […]

Continue Reading

BAHUT DIYA DENE WAALE NE MUJHAKO

कैसे कैसे कभी इस दिल में अरमान थे, कुछ ऐसे जज़्बात जिनसे हम अनजान थे। शुरू शुरू में तो ऐसा लगता था हमें, क़दमों तले सातों आसमान थे I यह भी एहसास हुआ कई बार हमें, बाहों में अपने दोनों जहान थे I मिलने की खुशी चंद घंटों की थी, ना मिलने से हम कितने परेशान थे। हम मजबूर इस तरह हुए हालात के हाथों, कभी ग़मगीन और कभी हम […]

Continue Reading

NA KHELO MERE DIL SE

ना खेलो मेरे अरमानो से, मेरे जज़्बातों से, मेरे उदास दिनों से, मेरी सुनसान सियाह रातों से, मुझे आदत सी पड़ गयी है रूखेपन की, ना उलझायो मुझे प्यारी और मदहोश बातों से। कुछ नहीं होगा, रहने दो मुझे तन्हा ओ बेज़ार, ना ललचाओ माज़ी की सुहानी मुलाकातों से। ज़िन्दगी सेहरा बन गयी है, और तुम अभी भी, दिल की धरती सींच रहे हो कल की बरसातों से मेरा कोई […]

Continue Reading

GEETKAAR NA BAN PAAYA TO KYAA?

काश तेरे लिए बन पाता शकील बदायुनी, ग़ज़ल लिख पाता कोई ताज़ा अनसुनी I चौदहवीं का चाँद कह के तुम्हें बुलाता, खुशियां तेरी कर देता दूनी चौगुनी I या फिर मैं रूप धारण करता शैलेन्द्र का, तेरे मन की गंगा और मेरे मन की जमुना का, मैं होता आवारा, और तुम होती अनुराधा, दोनों मिल के गाते प्यार हुआ इकरार हुआ I शायद तुम्हें पसंद आता, मैं होता हसरत जयपुरी, […]

Continue Reading

TUM HO TO SAB KUCHH HAI, TUM NAHIN TO KUCHH BHI NAHIN

फूल हैं बड़े सुन्दर और रंगीले, लाल, हरे, नीले और पीले I इनसे अलग एक है सबसे प्यारा, वह है सनम चेहरा तुम्हारा I तुम हो तो ज़िन्दगी है चमन, तुम नहीं तो ज़िन्दगी वीरान, फूलों को भी पता है जान-ए-बहार, तुम्ही तो हो फूलों की जान I भँवरे बाग़ में गुनगुनाते हैं, तितलियों संग मन लुभाते हैं I पर सबसे दिलकश है तुम्हारा गीत, जिसने मेरा दिल लिया है […]

Continue Reading

Songs That Tug At Your Emotions – Song #18

The eighteenth day of songs in this series. In the last seventeen days, we have taken up songs of nine male singers: Talat Mahmood, Manna Dey, Kishore Kumar, Mohammad Rafi, Mukesh, Hemant Kumar, Mahendra Kapoor, SD Burman and KL Saigal. We also took up songs of eight female singers: Lata Mangeshkar, Asha Bhosle, Suman Kalyanpur, Shamshad Begum, Geeta Dutt, Uma Devi (Tun Tun), Suraiya and Zohrabai Ambalewali. Naturally, stage is […]

Continue Reading

KUCHH SOYE HUYE ARMAAN

आधी रात को जब उसने बुलाया “honey”, बढ़ गयी तुरंत मेरी diabetes; सांस का तेज हो जाना स्वाभाविक था, दिल की धड़कन भी हो गयी increase. सब कुछ बढ़ चढ़ के उछाले मारने लगा, एक brain ही था जो हो गया था seize. पैंतीस साल हो गए हमारी शादी को, अभी भी हूँ मैं प्यार का मरीज़ I गर्मा गर्मी में वो अरमान भी जाग उठे, जो कल तक लेटे […]

Continue Reading

HAM BADLAAV LAA SAKTE HAIN

मुल्क को क्या बनना था, और अब क्या बना, यही वो नेता हैं जिन्हें हम सब ने था चुना । देश का विकास करेंगे, राम राज्य लेकर आएंगे, याद है चुनाव प्रचार में हम सबने था सुना? कोई अंतर नहीं है, सब एक ही डाल के पंछी हैं, क्या आज तक कोई शैतान देवता है बना? हम बदलाव ला सकते हैं, पार्टी का नहीं, क्वालिटी का, इसके लिए अपना लालच […]

Continue Reading

AANSU HAIN KE RUKTE HI NAHIN

कभी सोचा न था इक दिन ऐसा भी आएगा, माँ के बगैर जग में रहना पढ़ जाएगा I अभी तो माहौल – ए – मातम राज की माँ जी का था, क्या खबर नया दिन नया ग़म लेकर आएगा I क्यों नहीं हम होते इसके लिए कभी तैयार, के इक दिन माँ का साया सर से उठ जाएगा? और भगवान, इतनी भी क्या जल्दी थी तुम्हें, हम उदास ओ मजबूर […]

Continue Reading

MERE ‘CHHOTE’ NE BHI MAA KO KHO DIYA

दिल तड़प उठा फिर से, माँ की सुनके खबर, फिर से टूट पढ़ा है प्याला – ए – सबर I उन्हीं के आँचल में एहसास था जन्नत का, फ़िज़ायों की ताज़गी, उन्ही का था असर I रोतो को मुस्कराना उन्ही ने था सिखाया, चलने का हौंसला दिया, उनकी ही थी डगर I उनकी पकी चीज़ का स्वाद ही अलग था, हर लम्हा उनके साथ प्यार की थी नज़र I राज […]

Continue Reading

हमारी दिवाली में भी खुशियां थीं

ऐ दिवाली तू क्यों मुंह मोड़ आयी, हमारी माँ को कहाँ तू छोड़ आयी? उन संग हंसी के फवारे बुलंद थे, तू तो दामन को ही अब निचोड़ आयी I हमने रंग रंग के पटाखे इकठ्ठे फोड़े थे, तू तो किस्मत ही हमारी फोड़ आयी I कहाँ तो खुशियों के कारवां यहाँ निकलते थे, अब तो ग़मों से रिश्ता तू जोड़ आयी I उनका हाथ क्या थामा भरी महफ़िल में, […]

Continue Reading

ODE TO LYN, A WIFE, MOTHER, BAHU AND DAUGHTER

It is sometimes expedient to take women and what they do, for granted. However, it is high time that I acknowledge the enormous contribution made by Lyn (short for Marilyn), my wife, in my life and especially during the last few days of my mother. She is silent but sincere and dedicated (In a chorus, in the church, for example, she shyly stands in the rear row). On the day […]

Continue Reading

ZARRE ZARRE MEIN MAA HAI

कौन कहता है मेरी माँ अब मुझसे दूर है, हवाओं की खुशबु उनकी महक से मगरूर है I दिन के उजाले उनकी मौजूदगी की पहचान हैं, माहताब की किरण उनकी ही आँख का नूर है I कंडाघाट नज़ारों में जब नज़र दौड़ाता हूँ, यकीन आता है मेरी माँ इनमें ज़रूर है I मेरी क़राबत में जो भीगी शादाबी है फ़िज़ायों में, मेरी माँ की तबस्सुम का ही तो सरूर है […]

Continue Reading

Raaga Based Song Of The Day #55 – A Tribute To My Late Mother

Raaga Based Song of the Day: O door ke musaafir hamko bhi saath le le re, ham reh gaye akele…. Raag Pahadi, Tal Kaherava I gave you the last raaga based song of the day on 31st Jul 17, which happened to be on the death anniversary of the greatest Indian playback singer: Mohammad Rafi (Please read: ‘Raaga Based Song Of The Day #54’). I wasn’t able to put up […]

Continue Reading

MOM’S ANTIM ARDAAS

My mom’s Bhog (Antim Ardas) was supposed to be on the thirteenth day (tehranvi). However, that happened to be on Monday, the 21st Aug, and I thought of the convenience of  family and friends and had it on Sunday, the 20th Aug. On the Friday, 18th Aug 17, we started with the Akhand Path (continuous reading from the Sri Guru Granth Sahib) for her at about 1141 hours. My mamaji […]

Continue Reading
1 2 3 10