MUJHE PEENE DO

These poems are for my close friend Maj Vishwas Mandloi’s delightful group of tipplers called i-peg. One has to raise a toast to the committed lot for their single minded aim of spreading cheers!

रुह कांप गयी उसे जब चला पता,
घर में आज शराब खत्म है;
कैसे हो गई यह शर्मनाक खता?
खता नहीं हक़ीक़त में सितम है।

पूरे घर को छान मारा,
कहीं न मिले गांधी वाले नोट,
सोचा आज करते हैं मय से किनारा,
हालांके दिल पे लगेगी चोट।

फिर देखा बीवी गयी है नहाने,
बाहर छोड़ गई है सोने की चेन,
बाद में उसके सुनेंगे ताने,
पहले हो जाये शराब का लेन देन।

बोतल गयी अंदर, झूम गया आलम,
बन गए कल्लू मियां तानसेन,
बीवी ने पूछा सुनते हो बालम,
कहाँ गयी मेरे सोने की चेन?

“भूल जाओ आज ज़िन्दगी के गम” वो गाये,
“चेन से तुम कई गुना हो हसीं”
बीवी चिल्लाई: “मैं मर गयी, हाय,
इसकी भी शराब तो न पी ली कहीं?”

रसोई से बीवी ने बेलन उठाया,
और दिया कल्लू के सर पर मार;
तानसेन झट हो गया पराया,
उतर गया फितूर ए खुमार I

भाईयो इसमें छुपी है एक गहरी सीख:
गरीबखाने में गर शान से जीना,
और मांगनी न पड़े किसी से भीख
तो बीवी को भी सिखा दो पीना।

गोल्ड चेन के सारे ख्वाब,
उसके चले जायेंगे दूर;
हसीं लगेगी उसको भी शराब,
चढ़ा रहेगा हरदम सरूर।

देर मत कीजिये, बीवी को है सिखाना,
आज ही शुरू करें online class,
Women empowerment का है ज़माना,
उसके लिए अलग बोतल और गिलास।

Rooh kaamp gayi use jab chala pata,
Ghar mein aaj shraab khatam hai;
Kaise ho gayi yeh sharmnaak khata?
Khata nahin haqeeqat mein sitam hai.

Poore ghar ko chhan maara,
Kahin na mile Gandhi waale note;
Socha aaj karte hain may se kinaara,
Halanke dil pe lagegi chot.

Phir dekha biwi gayi hai nahaane,
Baahar chhod gayi hai sone ke chain,
Baad mein uske sunenge taane,
Pehle ho jaaye shraab ka len den.

Botal gayi andar, jhoom gaya aalam,
Ban gaye Kallu Mian Tansen,
Biwi ne puuchha sunate ho baalam,
Kahan gayi meri sone ki chain?

“Bhool jaao aaj zindagi ke gham”, wo gaaye,
“Chain se tum kayi guna ho hasin”
Biwi chilaayi: “Main mar gayi haay,
Iski bhi sharaab to na pi li kahin?”

Rasoi se biwi ne belan uthhaya,
Aur diya Kallu ke sar par maar,
Tansen jhat ho gaya paraaya,
Utar gaya fitoor-e-khumaar.

Bhaiyo is mein chhupi hai seekh:
Gareebkhane mein gar shaan se jeena,
Aur maangni na padhe kisi se bheekh,
To biwi ko bhi sikha do peena.

Gold chain ke saare khwaab,
Uske chale jaayenge door;
Hasin lagegi usko bhi sharaab,
Chadha rahega hardam saroor.

Der mat keejiye, biwi ko hai sikhaana,
Aaj hi shuru karen online class;
Women empowerment ka hai zamaana,
Uske liye alag botal aur glass.

© 2018, Sunbyanyname. All rights reserved.

You may also like

2 Comments

  1. Fantastic.
    दिन हो जायें सुनहरे , शामें हो जायेंगी शाम-ए-खास ।
    लुत्फ हो जायेगा दोगुना जब बीबी भी साथ बैठेगी लेकर बोतल एण्ड गिलास ।।।

Your comments add value to the posts; so go ahead, tell me what you feel.