MERI WAFA PE SHAQ NA KARNA

अपनी ही ज़िन्दगी पर अब मुझे इख़्तियार नहीं,
इलाज ए मरीज़ मेरा हो, मुझे इंतजार नहीं ।

दिल की बेक़रारी जब मुझे समझ आने लगी,
देखता क्या हूँ मैं अब दिल – ए – बेक़रार नहीं ।

जाने क्या राख के ढेर में खोजते रहते हो,
इन खिज़ाओं में अब कहीं कोई बहार नहीं ।

मोहब्बत में बस यही रह गया था देखने को,
अपनी ही मुहब्बत पर मुझे ऐतबार नहीं I

जाम तेरा लब पे आने से पहले ही सूख गया,
फिर भी तेरे मैखाने से मैं बेज़ार नहीं I

मेरे मरने के बाद तुम्हे खुद एहसास होगा,
जुर्म हुआ ज़रूर है, पर मैं गुनहगार नहीं I

तमन्नाओं का किया खून, आरज़ूओं को जला डाला,
अपने किये का मैं फिर भी शर्मसार नहीं I

तू न समझे पर लोग समझ जायेंगे, रवि,
मैंने मर के भी निभाई है, मैं बेवफा दार नहीं I

(Pic courtesy: mglpriestsandbrothers.org)

Apni hi zindagi par ab mujhe ikhtiyaar nahin,
Ilaaj-e-mareez mera ho, mujhe intzaar nahin.

Dil ki beqraari jab mujhe samajh aane lagi,
Dekhta kyaa hoon main ab dil-e-beqraar nahin.

Jaane kyaa raakh ke dher mein khojte rehte ho,
In khizaayon mein ab kahin koi bahaar nahin.

Mohabbat mein bas yahi reh gaya tha dekhne ko,
Apni hi mohabbat par mujhe aitbaar nahin.

Jaam tera lab pe aane se pehle hi sookh gaya,
Phir bhi tere maikhaane se main bezaar nahin.

Mere marne ke baad tumhe khud ehsaas hoga,
Zurm huaa hai zaroor, par main gunahgaar nahin.

Tamannayon ka kiya khoon, aarzuon ko jala daala,
Apne kiye ka main phir bhi sharmsaar nahin.

Tu naa samjhe par log samajh jaayenge, Ravi,
Maine mar ke bhi nibhayi hai, main bewafa daar nahin.

© 2018, Sunbyanyname. All rights reserved.

You may also like

4 Comments

  1. बढिया । एक अच्छी कविता बन पाई है दर्द भरी ।