BAHUT DIYA DENE WAALE NE MUJHAKO

कैसे कैसे कभी इस दिल में अरमान थे,
कुछ ऐसे जज़्बात जिनसे हम अनजान थे।

शुरू शुरू में तो ऐसा लगता था हमें,
क़दमों तले सातों आसमान थे I

यह भी एहसास हुआ कई बार हमें,
बाहों में अपने दोनों जहान थे I

मिलने की खुशी चंद घंटों की थी,
ना मिलने से हम कितने परेशान थे।

हम मजबूर इस तरह हुए हालात के हाथों,
कभी ग़मगीन और कभी हम पशेमान थे।

ज़िन्दगी की राहों में हमदर्द तो नहीं मिले,
पर हर मरहले पे देखा खड़े हैवान थे।

हौले हौले हमने देखा एक अजूबा,
हमारी तरह लोग भी ज़िन्दगी से हैरान थे।

जहाँ भी गए लोगो की भीड़ थी लेकिन,
दिलों के रास्ते पूरी तरह सुनसान थे।

वक़्त बीत गया, ज़िन्दगी पीछे रह गयी,
दो चार घड़ी इस जगह हम मेहमान थे।

कल आएगा, नए कारवां होंगे, पर कैसे भूलें,
इस धरती पे हम भी कभी इंसान थे।

भगवान, फिर भी तेरे सजदे में है रवि,
जो कुछ भी पाया सब तेरे एहसान थे।

(Pic courtesy: fatherspiritson.com)

Kaise kaise kabhi is dil mein armaan the,
Kuchh aise jazbaat jinse ham anjaan the.

Shuru shuru mein to aisa lagta tha hamen,
Kadmon tale’ saaton aasman the.

Yeh bhi ehsaas hua hai kayi baar hamen,
Baahon mein apne dono jahan the.

Milne ki khushi chand ghanton ki thi,
Na milne se ham kitne preshaan the.

Ham majboor is tarah huye halaat ke haathon,
Kabhi ghamgeen aur kabhi ham pasheman the.

Zindagi ki raahon mein hamdard to nahin mile,
Par har marhale’ pe dekha khade haiwan the.

Haule haule hamne dekha ek ajooba,
Hamari tarah log bhi zindagi se hairan the.

Jahan bhi gaye logo ki bheedh the lekin,
Dilon ke raaste poori tarah sunsaan the.

Waqt beet gaya, zindagi peechhe reh gayi,
Do chaar ghadi is jagah ham mehmaan the.

Kal aayega, naye kaarvan honge, par kaise bhoolen,
Is dharti pe ham bhi kabhi insaan the.

Bhagwan, phir bhi tere sajde mein hai Ravi,
Jo kuchh bhi paaya sab tere ehsaan the.

© 2018, Sunbyanyname. All rights reserved.

You may also like

4 Comments

Your comments add value to the posts; so go ahead, tell me what you feel.