TUM HO TO SAB KUCHH HAI, TUM NAHIN TO KUCHH BHI NAHIN

फूल हैं बड़े सुन्दर और रंगीले,
लाल, हरे, नीले और पीले I
इनसे अलग एक है सबसे प्यारा,
वह है सनम चेहरा तुम्हारा I
तुम हो तो ज़िन्दगी है चमन,
तुम नहीं तो ज़िन्दगी वीरान,
फूलों को भी पता है जान-ए-बहार,
तुम्ही तो हो फूलों की जान I

भँवरे बाग़ में गुनगुनाते हैं,
तितलियों संग मन लुभाते हैं I
पर सबसे दिलकश है तुम्हारा गीत,
जिसने मेरा दिल लिया है जीत I
तुम हो तो ज़िन्दगी है सुरीली,
तुम नहीं तो ज़िन्दगी सुनसान,
भंवरों को भी पता है जान-ए-मौसिकी,
तुम्ही तो हो भंवरों की जान I

झरने ताज़गी बरसा रहे हैं,
आशिकों के दिल तरसा रहें हैं I
पर फ़िज़ाएं जो चूमें तेरे रुखसार,
ले के आएं हसीं प्यार की बौछार I
तुम हो तो ज़िन्दगी में ताज़गी,
तुम नहीं तो ज़िन्दगी वीरान,
झरनों को भी पता है जान-ए-शादाब,
तुम्ही तो हो झरनों की जान I

सपनो की दुनिया लगती है रंगीन,
बादलों के ऊपर वह नगरी हसीन,
पर जिसने देखा तेरी आँख का नज़ारा,
ख्वाब-ए-जन्नत से कर बैठा किनारा I
तुम हो तो वो दुनिया पहचानी है,
तुम नहीं तो वो दुनिया अनजान,
सपनो को भी पता है जान-ए-ख्वाब,
तुम्ही तो हो सपनो की जान I

(Pic courtesy: www.aksharsamrat.com)

Phool hain bade sundar aur rangeele,
Laal, hare, neele aur peele.
Inse alag ek hai sabse pyaara,
Woh hai sanam chehra tumhaara.
Tum ho to zindagi hai chaman,
Tum nahin to zindagi veeraan,
Phoolon ko bhi pata hai jaan-e-bahaar,
Tumhi to ho phoolon ki jaan.

Bhanvre baag mein gungunaate hain,
Titliyon sang man lubhaate hain.
Par sabse dilkash hai tumhaara geet,
Jisane mera dil liya hai jeet.
Tum ho to zindagi hai sureeli,
Tum nahin to zindagi sunsaan,
Banvron ko bhi pata hai jaan-e-mausiki,
Tumhi to ho banvron ki jaan.

Jharne taazgi barsa rahe hain,
Aashiqon ke dil tarsa rahe hain.
Par fizaayen jo chume tere rukhsaar,
Le ke aayen hasin pyaar ki bochhar.
Tum ho to zindagi mein taazgi,
Tum nahin to zindagi veeraan,
Jharno ko bhi pata hai jaan-e-shadaab,
Tumhi to ho jharno ki jaan.

Sapno ki duniya lagati hai rangeen,
Baadlon ke ooper woh nagri haseen.
Par jisne dekha teri aankh ka nazaara,
Khwaab-e-jannat se kar baitha kinaara.
Tum ho to wo duniya pehchaani hai,
Tum nahin to wo duniya anjaan,
Sapno ko bhi pata hai jaan-e-khwaab,
Tumhi to ho sapno ki jaan.

© 2017, Sunbyanyname. All rights reserved.

You may also like

Your comments add value to the posts; so go ahead, tell me what you feel.