MAA MUSIC FEST WITHOUT MAA

माँ के बगैर अब गीत भी न मुझको भाये,
पढ़ने लिखने में भी बस आंसू ही निकल आये,
कहने को तो उन्हीं के नाम का संगीत Fest है,
क्या करे कोई जब उनकी याद फिर सताये?

वह मासूम चेहरा, वह मंद सी मुस्कान,
वह बचपन मेरा, वह मीठे मीठे पकवान,
उन्ही की हौंसला अफ़ज़ाई के असर से,
एक दिन हो गया मैं काबिल और जवान I

उनके इशारे से, सब कुछ था मुमकिन,
माँ के संग कुछ भी न लगता था मुश्किल,
वह थी मेरी ताक़त, मेरी उम्मीद – ऐ – कामयाबी,
अब कौन जाने कैसे कटेगी ज़िन्दगी उन बिन?

एक दिन सबको जाना है, उनको भी था जाना,
मेरे पास Fest के लिए बहुत सुन्दर था गाना,
पर क्या करूँ, दिल कहीं है और जज़्बात कहीं और,
उन्ही के Fest में उनके बाद मुझे नहीं है आना I

एहसान मंद हूँ आपका, आपके बेनज़ीर प्यार के लिए,
माँ होती तो खुश होती मुहब्बत – ऐ – इज़हार के लिए,
मुझे माफ़ करना मैंने गीत नहीं अश्क़ ही दिए हैं,
पर दुआ ज़रूर करना मेरे दिल – ऐ – बेक़रार के लिए I

 

 

Maa ke bagair ab geet bhi naa mujhako bhaaye,
Padhne likhne mein bhi bas aansu hi nikal aaye,
Kehne ko to unhin ke naam ka sangeet Fest hai,
Kyaa kare koi jab unaki yaad phir sataaye?

Woh masoom chehra, woh mand si muskaan,
Woh bachpan mera, woh meethe meethe pakwaan,
Unhi ki haunsla afzayi ke asar se,
Ek din ho gaya main kaabil aur jawaan.

Unake ishaare se, sab kuchh tha mumkin,
Maa ke sang kuchh bhi na lagta tha mushkil,
Woh thi meri taaqat, meri umeed-e-kamyaabi,
Ab kaun jaane kaise kategi zindagi un bin?

Ek din sabako jaana tha, unako bhi tha jaana,
Mere paas Fest ke liye bahut sundar sa tha gaana,
Par kyaa karun, dil kahin hai aur jazbaat kahin aur,
Unake Fest mein unake baad mujhe nahin hai aana.

Ehsaan mand hoon aapka, aapke benazir pyaar ke liye,
Maa hoti to khush hoti muhabbat-e-izhaar ke liye,
Mujhe muaaf karna maine geet nahin ashq hi diye hain,
Par dua zaroor karna mere dil-e-beqraar ke liye.

© 2017, Sunbyanyname. All rights reserved.

You may also like

TU