MERI ZINDAGI AAPKI AANKHON TALE

आपकी आँखों में मुझे वह झलक मिल जाती है,
ज़िन्दगी दफ़अतन और हसीन हो जाती है I

लोग देखते हैं प्यार दिलरुबा की आँखों में,
मुझे तो सारी कायनात नज़र आ जाती है I

ये आँखें नहीं हैं मेरी ज़िन्दगी की रहनुमा हैं,
ज़िन्दगी के मायने यकीनी मुझे समझाती हैं I

कई बार सोचता हूँ कह दूँ इनसे मैं दिल की बात,
क्या कहूं हया मेरी आंखों में छलक जाती है I

सबेरे का सूरज इनकी पलकें खुलने का इशारा है,
रात का अँधेरा पलक झुकने पे ले आती हैं I

ज़िन्दगी में लाखों ग़म इधर उधर बिखरे हों तो क्या,
ज़िन्दगी के सारे ग़म इनकी लौ भुलाती हैं I

मुझे अब इनके सिवा कुछ और न चाहिए, रवि,
जन्नत – ऐ – खुदा खुद बा खुद मिल जाती है I

(Image courtesy: deviantart.net)

Aapki aankhon mein mujhe woh jhalak mil jaati hai,
Zindagi dafayatan aur haseen ho jaati hai.

Log dekhte hain pyaar dilruba ki aankhon mein,
Mujhe to saari kaynaat nazar aa jaati hai.

Ye aankhen nahin hain meri zindagi ki rehnuma hain,
Zindagi ke maine yakeeni mujhe samjhati hain.

Kayi baar sochta hoon keh doon inse main dil ki baat,
Kyaa kahun haya meri aankhon mein chhalak jaati hai.

Sabere ka suraj inaki palkon ka ishaara hai,
Raat ka andhera palak jhukne pe le aati hain.

Zindagi mein laakhon gham idhar udhar bikhre hon to kyaa,
Zindagi ke saar gham inaki lau bhulaati hai.

Mujhe ab inake siva kuchh aur na chahiye, Ravi,
Jannat-e-khuda khud ba khud mil jaati hai.

© 2017, Sunbyanyname. All rights reserved.

You may also like

4 Comments

Your comments add value to the posts; so go ahead, tell me what you feel.