ALVIDA!

वक़्त की आंधी में क्या क्या हुआ बर्बाद,
सुहाने प्यार की फ़क़त रह गयी है याद I

उनकी मायूसी को मैं खुशग्वार करता गया,
रफ्ता रफ्ता मेरी ही ज़िन्दगी बन गयी नाशाद I

मेरी वफाओं ने आखिर मान ली हार अपनी,
उनकी जफ़ाएं रहीं बुलंद और ज़िंदाबाद I

मैंने सोचा था उनकी खुदी आजज़ी में बदल जायेगी,
मेरे होते न सही, कम अज़ कम मेरे जाने के बाद I

अलविदा मेरे हसीन हमसफ़र ओ हमनवाज़,
जहाँ भी रहो, रहो खुशदिल और मवाद I

रुख़सत के वक़्त यह दुआ उनके साथ रहे, रवि,
हर ग़म, हर उदासी, हर बेकसी से वह रहें आज़ाद I

(Photo courtesy: dogeninstitute.wordpress.com)

Waqt ki aandhi mein kyaa kyaa hua barbaad,
Suhaane pyaar ki faqat reh gayi hai yaad.

Unaki maayusi ko main khushgawaar karta raha,
Rafta rafta meri hi zindagi ban gayi nashad.

Meri wafayon ne aakhir maan hi li haar apni,
Unaki jafayen rahin buland aur zindabad.

Maine socha tha unaki khudi aajazi mein badal jaayegi,
Mere hote na sahi, lam az kam mere jaane ke baad.

Alvida mere haseen hamsafar o hamnawaz,
Jahan bhi raho, raho khushdil aur mawaad.

Rukhsat ke waqt yeh dua unake saath rahe, Ravi,
Har gham, har udaasi, har beqasi se woh rahen aazad.

© 2017, Sunbyanyname. All rights reserved.

You may also like