ON SUREKHA’S BIRTHDAY 03 SEPTEMBER 2016

My wishes on the birthday of my sister, Surekha Saini:

जन्मदिन मुबारक सुरेखा,
जबसे हमने तुम्हें है देखा,
दिल में ख़ुशी और उमंगो की,
खींच गयी है जैसे रेखा।

आप अच्छाई और सुंदरता की मूरत हो,
हम भाइयों के लिए बहिन की सूरत हो,
आपसे मिल के यूँ लगता है हमें,
ज़िन्दगी की एक हसीन ज़रुरत हो ।

सूफ़ी संगीत आपकी पसंदीदा चाहत है,
इसी से आपके जीवन में राहत है,
“जैसा जिसका संगीत हो, वैसा ही इन्सान होता है”
यह तो बहुत पुरानी कहावत है ।

बच्चों और उनके बच्चों संग आप लहराती हो,
बहुओं को तो आप दोस्त बनके भाती हो,
बाकी रहे हम आपके YKDN के fan (पंखे),
हमें rare और सुरीले नग़में सुनाती हो ।

आपको रब्ब ने बहुत इत्मिनान से है बनाया,
क्या मुस्कराहट दी है, और क्या दी है काया,
यानि यूँ कहो के गहरी अँधेरी रात में भी,
जैसे चौदहवीं का चाँद हो निकल आया ।

Vipan कहते हैं उनका पहले से आप से नाता,
Raj कहते हैं वह हैं आपके असली भ्राता,
Vishwas तो “मैडम” से ही काम चला लेता है,
Nitin तो सुबह शाम आपके ही गीत गाता ।

Manik पल पल आपके ही गुन गाती है,
Leela आपके बारे सोच मंद मंद मुस्कराती है,
Sumedha आपको समझती हैं अप्सरा,
Ritu को वह aunty मिली जो उसे भाती है ।

Surinder आपको समझता है देवी का रूप,
Sumona के लिए आप हैं छाँव में घूप,
और जो आपकी Ambale वाली फॅमिली है,
उनके लिए आप हैं KFC और Manchow सूप।

और वह भी हैं जिनके मैंने नाम नहीं लिए, (जैसे कि Jaswant)
उनके लिए हो आप सबसे प्रिय,
बाकी मैं रह गया आपका खुश किसमत वीरजी,
मेरी बहिन हो आप सौ जन्मो के लिए ।

सोचता हूँ बहिन पा के मुझे मिला है इनाम,
मुझ नामुराद को भी मिल गया है नाम,
आपका वीरजी बनना किसी तोहफ़े से कम नहीं,
भगवान् तुझे दिल जिगर से सलाम ।

आपका जन्मदिन शुभ हो, यह हमारी आशा है,
प्यार से family संग रहना, YKDN की भाषा है,
सौ वर्ष जिए हमारी सुन्दर और प्यारी बहना,
हम सबकी आज के शुभ दिन की अभिलाषा है ।

Janamdin mubaarak Surekha,
Jabase hamane tumhen hai dekha,
Dil mein khushi aur umango ki,
Kheench gayi hai jaise rekha.

Aap achchhayi aur sundarta ki moorat ho,
Hum bhatiyon ke liye bahin ki soorat ho,
Aap se mil ke youn lagata hai hamen,
Zindagi ki ek haseen zaroorat ho.

Sufi sangeet aapki pasandeeda chahat hai,
Isi se aapke jeevan mein raahat hai,
“Jaisa jiska sangeet ho, waisa hi insaan hota hai”,
Yeh to bahut purani kahawat hai.

Bachchon aur unake bachchon sang aap lehraati ho,
Bahuyon ke liye aap dost ban ke bhaati ho,
Baaqi rahe ham aapke YKDN ke fan (pankhe),
Hamen rare aur sureele naghmen sunaati ho.

Aapko rabb ne bahut itminaan se hai banaya,
Kyaa muskraahat di hai, aur kyaa di hai kaaya,
Yani youn kaho ke gehri andheri raat mein bhi,
Jaise chaudhvin ka chand ho nikal aaya.

Vipan kehte hain unaka pehle se hai aap se naata,
Raj kehte hain woh hain aapke asli bhraata,
Vishwas to “madam” se hi kaam chala lete hain,
Nitin to subah shaam appke hi geet gaata.

Manik pal pal aapke hi gun gaati hai,
Leela aapke baare mein soch mand mand muskraati hai,
Sumedha aapko samajhati hai apsara,
Ritu ko woh aunty mili jo use’ bhaati hai.

Surinder aapko samajhata hai devi ka roop,
Sumona ke liye aap hain chhanv mein dhoop,
Aur woh jo aapki Ambale waali family hai,
Unake liye aap hain KFC aur Manchow soup.

Aur woh bhi hain jinake maine naam nahin liye,(eg, Jaswant)
Unake liye ho aap sabse priya,
Baaki main reh gaya aap ke khush kismat veerji,
Meri bahin ho aap sau janamo ke liye.

Sochata hoon bahin paa ke mujhe mila hai inaam,
Mujh namuraad ko bhi mil gaya hai naam,
Aapka veerji banana kisi tohfe se kam nahin,
Bhagwan tujhe dil jigar se salaam.

Aapka janmadin shubh ho, yeh hamaari aasha hai,
Pyaar se family sang rehna, YKDN ki bhasha hai,
Sau varsh jiye hamaari sundar aur pyaari behna,
Hum sabaki aaj ke shubh din ki abhilasha hai.

© 2017, Sunbyanyname. All rights reserved.

You may also like