“Babumoshai, Zindagi Aur Maut Uparwale Ke Hath Hai Jahanpanah”

Recently, a number of friends and collegues have left us……

जाने कब सांस रुक जाए, गर्म खून हो जाए सर्द?
यह जो महल हमने बनाये हैं, कब हो जाएँ गर्द?
जाने कब फरमान आ जाए मौत के शेहन-शाह का?
कौन जाने कहाँ है मुकाम ज़िन्दगी की राह का?

तिनका तिनका बटोर कर बनाया है जो आशियां,
हमसफ़र ओ रहबरों का बढ़ता हुआ ये कारवां,
कठपुतलियां हैं सब, जाने किस को वह उठा ले?
आज, कल या परसों, कब, कैसे, कहाँ?

मजबूरी ओ उदासी ने बाँध दिए हैं हाथ,
दोस्तों और आशिकों का है पल दो पल का साथ;
अभी तो सुहाना दिन है, रंग है और नूर है,
जाने कब बन जाए यह सियाह अँधेरी रात?

आज हमारी बज़म से जाने कहाँ वह जाते हैं?
कल हम ज़ुबान थे, आँख अब चुराते हैं,
मेला है भाई, भीड़ में भी सब अकेले हैं,
दुनिया यूँ ही चलती है, लोग आते हैं, जाते हैं I

यही हकीकत है तो आता है ख्याल मन में,
क्यों ना खुशियों के बूटे उगाएं दिल के आँगन में?
दोस्ती हो सबसे दुश्मनी का नाम ही न हो,
सब ही खुश आमदीद हों अपने नशेमन में I

ज़िन्दगी मिल जुल के प्यारी ओ हसीन हो,
दोस्तों की यादें खूबसूरत और रंगीन हों,
ज़िन्दगी ज़िंदादिली से जियें हम ऐसे,
के मौत को भी हमारी ज़िन्दगी पर यकीन हों I

ज़ेहन में न रंजिश किसी के वास्ते हो,
“छोटी सी ये दुनिया, पहचाने रास्ते” हों,
वफायें हों, जफाओं से कोई नाता ही न हो,
दिल में गर्माहट हर किसी के वास्ते हो I

मौत के फ़रिश्ते को पुर उम्मीद मिलें हम,
वक़्त आने पे हमारे हँसते हुए निकले दम,
छोड़ जाएँ खुशियां सब अपनों के लिए,
न आंसू हों, न पशेमानी, न ख़ौफ हो, न ग़म I

ऐ खुदा, तेरा ‘रवि’ हर दम तैयार हो,
मुस्कराते ले जाना, न के जब बिमार हो,
जीते जी मेरे अपनों का हो घर संसार,
मेरे मरने पे भी उनकी ज़िन्दगी में बहार हो I

Jaane kab saans ruk jaaye, garm khoon ho jaaye sard?
Yeh jo mahal hamane banaaye hain, kab ho jaayen gard?
Jaane kab farmaan aa jaaye maut ke shehan-shah ka?
Kaun jaane kahan hai mukaam zindagi ki raah ka?

Tinaka tinaka batore kar banaaya hai jo aashiyaan,
Hamsafar o rehbaron ka badhata hua ye karvaan,
Kathhputliyan hain sab, jaane kis ko woh uthha le?
Aaj, kal ya parson, kab, kaise, kahan?

Majburi o udhasi ne baandh diye hain haath,
Dosto aur aashiqon ka hai pal do pal ka saath,
Abhi to suhaana din hai, rang hai aur noor hai,
Jaane kab ban jaaye yeh siyah andheri raat?

Aaj hamari bazm se jaane kahan woh jaate hain?
Kal hum zubaan the, aankh ab churaate hain,
Mela hai bhai, bheedh mein bhi sab akele hain,
Duniya youn hi chalti hai, log aate hain, jaate hain.

Yahi haqeeqat hai to aata hai khayaal man mein,
kyun na khushiyon ke boote ugaayen dil ke aangan mein?
Dosti ho sabse dushmani ka naam hi na ho,
sab hi khush amdeed hon apne nasheman mein.

Zindagi mil jul ke pyaari ho o haseen ho,
Doston ki yaadein khoobsurat aur rangeen hon,
Zindagi zindadili se jiyen ham aise,
Ke maut ko bhi hamaari zindagi pe yakeen ho.

Zehan mein na ranjish kisi ke vaaste ho,
“Chhoti si ye duniya, pehchaane raaste” hon.
Wafaayen hon, jafaayon se koi naata hi na ho,
Dil mein garmaahat har kisi ke vaaste ho.

Maut ke farishtay ko pur umeed milen ham,
Waqt aane pe hamaare hanste huye nikle dam,
Chhod jaaye khushiyan sab apno ke liye,
Na aansu hon, na pashemaani, na khauf ho, na gham.

Ai khuda, tera ‘Ravi’ har dam taiyyar ho,
Muskraate le jaana, na ke jab bimaar ho,
Jeete ji mere apno ka ho ghar sansaar,
Mere marne pe bhi unaki zindagi mein bahaar ho.

© 2017, Sunbyanyname. All rights reserved.

You may also like

2 Comments

  1. Kaya likha hei bhai.jindigi or Mout ki Kahani.maut is certain but when will it come is uncertain.