VOTE-BANDI, NOT NOTEBANDI, IS THE NEED OF THE HOUR

खुश थे जब जेब में न होते थे पैसे,
अब हैं तो कुछ अजीब लोग मिले हैं ऐसे I

हर चीज़ खरीदने पे लगा दिया है महसूल,
और कहा के यही है कफ़ायत का असूल,
तुम्हारे पैसे पे मुल्क का भी उतना ही है हक़,
जितना औरत का मर्द की कमाई पे है मरने तक I
देश को ज़रुरत है देश वासी हों तुम जैसे I
खुश थे जब जेब में न होते थे पैसे,
अब हैं तो कुछ अजीब लोग मिले हैं ऐसे I

पहले थोड़े में गुज़ारा था, ज़रूरतें भी थीं कम,
बीवी को रोज़ सैर पे ले जाया करते थे हम,
अब ब्यूटी पार्लर का हो गया है आना जाना,
मल्टी प्लेक्स में पिक्चर और होटलों में खाना I
क्या सुहाने दिन थे गरीबी के, बीत गए वह कैसे?
खुश थे जब जेब में न होते थे पैसे,
अब हैं तो कुछ अजीब लोग मिले हैं ऐसे I

पहले वज़ीर आज़म दूर से ही नज़र आते थे,
मुँह पे लगा के ताला, कुछ भी न सुनाते थे I
उनका मुँह न खुला जब वज़ीर पूरा खेत चर गए,
और देश की जागीर अपनी तजोरियों में भर गए I
अब जाने मन की बात सुनाने आ जाते हैं कैसे?
खुश थे जब जेब में न होते थे पैसे,
अब हैं तो कुछ अजीब लोग मिले हैं ऐसे I

पहले होनहार पुलिस वालों को सौ दो सो का था इंतज़ार,
अब उन्हें पता है जेब में नोट हैं गुलाबी दो हज़ार I
पहले बद-अमली नेता और उनके मुलाज़िम भी थे भोले,
अब हमारे पुराने हज़ार ओ पांच सौ के नोट देख कर बोले:
“लगता है खाली हाथ आ गए हो जैसे I”
खुश थे जब जेब में न होते थे पैसे,
अब हैं तो कुछ अजीब लोग मिले हैं ऐसे I

क्या होगा इस मुल्क का, कभी आता है ख़याल,
हर एक के होंठों पे बस एक ही है सवाल:
क्या हमारा किरदार नोटबंदी से बदल जाएगा,
या कुछ सालों बाद वह पल भी आएगा,
जब इंक़लाब के बिना कुछ न बदलेगा ऐसे,
खुश थे जब जेब में न होते थे पैसे,
अब हैं तो कुछ अजीब लोग मिले हैं ऐसे I

उठो तुम्हें तुम्हारा ईमान बुला रहा है,
मुल्क की सरहद पे खड़ा जवान बुला रहा है:
“मुल्क की हिफाज़त सिर्फ मेरा ही नहीं है फ़र्ज़,
मुल्क और भारत माँ का तुम पे भी है क़र्ज़ I ”
आओ सब मिल के देश को बचाएं,
जितना हमारे हक़ का है बस उतना ही खाएं I
बद इखलाकी लोगों की कर दो वोट – बंदी,
ता के दुबारा न आये इस मुल्क में नोटबंदी I

(Cartoon courtesy: indiandefencenews.com)

Khush the jab jeb mein na hote the paise,
Ab hain to kuchh ajeeb log mile hain aise.

Har cheez khareedne pe laga diya hai mahsool,
Aur kaha hai ke yahi hai kafaayet ka asool,
Tumhaare paise pe mulk ka utna hi hai haq,
Jitna aurat ka mard ki kamaayi pe hai marne taq,
Desh ki zaroorat hai desh waasi hon tum jaise,
Khush the jab jeb mein na hote the paise,
Ab hain to kuchh ajeeb log mile hain aise.

Pehle thode mein guzaara tha, zaroorten bhi thin kam,
Biwi ko roz sair pe le jaaya karte the ham,
Ab Beauty Parlour ka ho gaya hai aana jaana,
Multiplex mein picture aur hotlon mein khaana.
Kyaa suhaane din the gareebi ke, beet gaye woh kaise?
Khush the jab jeb mein na hote the paise,
Ab hain to kuchh ajeeb log mile hain aise.

Pehle wazeer azam door se hi nazar aate the,
Moonh pe laga ke taala, kuchh bhi na sunaate the.
Unka moonh na khula jab wazeer pura khet char gaye,
Aur desh ki jaagir apni tajoriyon mein bahr gaye.
Ab jaane Man Ki Baat sunaane aa jaate hain kaise?
Khush the jab jeb mein na hote the paise,
Ab hain to kuchh ajeeb log mile hain aise.

Pehle honhaar police waalon ko sau do sau ka tha intezaar,
Ab unhen pata hai jeb mein note hain gulaabi do hazaar.
Pehle bad-amli neta aur unke mulazim bhi the bhole,
ab hamaare puraane hazaar aur paanch sau ke note dekh kar bole:
“Lagta hai khaali haath aa gaye ho jaise”.
Khush the jab jeb mein na hote the paise,
Ab hain to kuchh ajeeb log mile hain aise.

Kya hoga is mulk ka, kabhi aata hai khyaal,
Har ek ke honthon pe bus ek hi hai sawaal:
Kya hamaara kirdaar notebandi se badal jaayega,
Yaa kuchh saalon ke baad woh bhi pal aayega,
Jab inqlaab ke bina kuchh na badlega aise.
Khush the jab jeb mein na hote the paise,
Ab hain to kuchh ajeeb log mile hain aise.

Utho tumhen tumhaara imaan bula raha hai,
Mulk ki sarhadd pe khada jawan bula raha hai:
“Mulk ki hifaazat sirf mera hi nahin hai farz,
Mulk aur Bharat Maa ka tum pe bhi hai karz.”
Aao sab milke desh ko bachaayen,
Jitna hamaare haq ka hai bus utna hi khaayen.
Bud-ikhlaaqi logon ki kar do vote-bandi,
Taa ke dobaara na aaye is mulk mein notebandi.

© 2016, Sunbyanyname. All rights reserved.

You may also like

4 Comments

  1. Very realistic light on current situation…let us hope something really good will happen for the nation.