SAB AJANABEE HAIN PAR KUCHH TO HAI APNA

रोने से कुछ न बन सका तो हसने की आयी बारी,
कुछ इस तरह से हमने है ज़िन्दगी गुज़ारी I

वह जब करीब आये तो हम दूर हो गए,
जीती हुयी ये बाज़ी खुद से है हमने हारी I

ज़िन्दगी की कश्म-ओ-कश में यह भी भुला दिया,
फिर कभी न मिल पायेगी, यह ज़िन्दगी हमारी I

साये बढ़ते गए आफताब चले जाने के बाद I
महताब की किरण भी दिखा गयी लाचारी I

दुनिया के शोर-ओ-गुल में परायों से क्या हो शिकवा,
अपने तो जान लेते मेरी यह बेक़रारी I

चमन के फूलों की यादें भी अब मुरझा गयीं हैं,
अब तो खिज़ा ही लेकिन लगती है मुझको पयारी I

सब अजनबी हैं, रवि, पर कुछ तो है अपना,
तन्हाई की यह दौलत मेरी ही तो है सारी I

Rone se kuchh na ban saka to hasne ki aayi baari,
Kuchh is tarah se hamne hai zindagi guzaari.

Woh jab kareeb aaye to ham door ho gaye,
Jeeti huyi ye baazi khud se hai hamne haari.

Zindagi ki kashm-o-kash mein yah bhi bhula diya,
Phir kabhi na mil paayegi, yah zindagi hamaari.

Saaye badhte gaye aftaab jaane ke baad,
Mehtaab ki kiran bhi dikha gayi lachaari.

Duniya ke shor-o-gul mein paraayon se kyaa ho shikwa,
Apne to jaan lete meri yah beqraari.

Chaman ke phoolon ki yaadein bhi ab murjha gayin hain,
Ab to khiza hi lekin lagti hai mujh ko pyaari.

Sab ajanabee hain, Ravi, par kuchh to hai apna,
Tanhayi ki yeh daulat meri hi to hai saari.

© 2016, Sunbyanyname. All rights reserved.

You may also like

2 Comments

  1. बहुत बेहतरीन पंक्तियाँ । साये बढते गये आफताब चले जाने के बाद ______ लाजवाब ।