PAISA FAINKO, TAMASHA DEKHO

क्या अजब है मेरे देश में ये पैसे का खेल?
अमीर की बद-अमली ग़रीब रहा है झेल I

आज़ादी के वक़्त से वह खड़ा है कतार में,
कोई तो होगा कभी किसी भी सरकार में,
जो उसके दिन भी वैसे ही बदल डाले,
जैसे नेताओं के बदलते हैं एक ही चुनाव में I
क्या अजब है मेरे देश में ये पैसे का खेल?
बद उनवान को नहीं, ईमानदार को मिली है जेल I

यह वोटों और नोटों वाले आम आदमी को पूजते हैं,
पर अकेले में तो यह भगवान् को भी लूटते हैं,
कहो इनसे कभी यह भी ख़ुदा के ही बन्दे हैं,
इनके महल बनाने में जिनके हाथ पैर सूजते हैं I
क्या अजब है मेरे देश में ये पैसे का खेल?
इनसानियत ओ इख्लाकियत की जैसे लगी हुई है ‘सेल’ I

“ग़रीबी हटाओ” “जम्होरीअत बचाओ” के नारे बहुत सुन लिए,
जागते सोते इन्साफ-ओ-खुशहाली के ख्वाब बहुत बुन लिए,
अब इंक़लाब आने का माहौल बना जाता है,
इन्तेख़ाब आते गए और हर दफा खुदगर्ज़ ही चुन लिए I
क्या अजब है मेरे देश में ये पैसे का खेल?
अमीर की बद-अमली ग़रीब रहा है झेल I

atm2
(Pic courtesy: news18.com)

Kya ajab hai mere desh mein ye paise ka khel?
Ameer ki bad-amli gareeb raha hai jhel.

Azaadi ke waqt se woh khada hai qataar main,
Koi to hoga kabhi kisi bhi sarkaar mein,
Jo uske din bhi waise hi badal daale,
Jaise netaayon ke badlate hain ek hi chunaav mein,
Kya ajab hai mere desh mein ye paise ka khel?
Bad unwaan ko nahin, imaandaar ko mili hai jail.

Yeh voton aur noton waale aam aadmi ko poojte hain,
Par akele mein to yeh bhagwaan ko bhi lootte hain,
Kaho inse kabhi yeh bhi khuda ke hi bande hain,
Inke mahal banane mein jinke haath pair soojte hain.
Kyaa ajab hai mere desh mein ye paise ka khel?
Insaaniyat o ikhlaqiyat ki jaise lagi hui hai ‘sale’.

“Gareebi hataao” “Jamhoriyat bachaao” ke naare bahut sun liye,
jaagte sote insaaf-o-khushaali ke khwaab bahut bun liye;
Ab inqlaab aane ka mahaul bana jaata hai,
Intekhaab aate gaye aur har dafaa khudgarz hi chun liye.
Kyaa ajab hai mere desh mein ye paise ka khel?
Ameer ki bad-amli gareeb raha hai jhel.

© 2016, Sunbyanyname. All rights reserved.

You may also like

6 Comments

    1. Inqlaabs are normally brought in by the middle class. Ours is dormant and it doesn’t have time from its IPLs and the like. Agree Hemant. But, God forbid if Modi too fails. That would be the trigger.