JAI HIND – MERA WATAN, MERA KHUMAAR

साक़ी जो पिलानी है तो कुछ ऐसी पिला दे,
जो हम सबको मेरे देश का दिवाना बना दे I

मेरे वतन का रहनुमा कुछ इस कदर हो मदहोश,
वह अपना घर छोड़, वतन को आशियाना बना दे I
साक़ी जो पिलानी है तो कुछ ऐसी पिला दे……

दफ्तर का बाबू हकूमत के ख्वाब छोड़ के,
आम लोगों की ज़िन्दगी को सुहाना बना दे I
साक़ी जो पिलानी है तो कुछ ऐसी पिला दे……

वकील पैसे के लिए नहीं, लोगों के लिए लड़े,
जल्दी फैसला करा के, कचहरियों को वीराना बना दे I
साक़ी जो पिलानी है तो कुछ ऐसी पिला दे……

सनत कार अपने खजाने भरने को भूल कर,
देश के गरीबों के नाम कारखाना लगा दे I
साक़ी जो पिलानी है तो कुछ ऐसी पिला दे……

और रही वह बद – अमली दरोगा की बात,
वह देश वासियों की हिफाज़त में अपना थाना लगा दे I
साक़ी जो पिलानी है तो कुछ ऐसी पिला दे……

फिल्मों का अदाकार और क्रिकेट का खिलाड़ी,
अपनी अदा और खेल में देश को नज़राना बना दे I
साक़ी जो पिलानी है तो कुछ ऐसी पिला दे……

हर मज़हब का वाइज़ कुछ ऐसी दलीलें सुनाये,
हिन्दू मुसलमान छोड़, इंसानियत को निशाना बना दे I
साक़ी जो पिलानी है तो कुछ ऐसी पिला दे……

खुशहाली मेरे वतन पे कुछ इस तरह हो फ़िदा,
के गरीबी और लाचारी को बेगाना बना दे I

साक़ी जो पिलानी है तो कुछ ऐसी पिला दे,
जो हम सबको मेरे देश का दिवाना बना दे I

Tricolour Wine
Tiranga wine added by me

Saaqi jo pilaani hai to kuchh aisi pila de,
Jo hum sabako mere desh ka diwaana bana de.

Mere watan ka rehnumaa kuchh is kadar ho madhosh,
Woh apna ghar chhod, watan ko aashiyana bana de.
Saaqi jo pilaani hai to kuchh aisi pila de……

Daftar ka babu haqoomat ke khwaab chhod ke,
Aam logon ki zindagi ko suhaana bana de.
Saaqi jo pilaani hai to kuchh aisi pila de……

Wakeel paise ke liye nahin, logon ke liye ladhe,
Jaldi faisla kara ke, kachharion ko veerana bana de.
Saaqi jo pilaani hai to kuchh aisi pila de……

Sanat kaar apne khazaane bharne ko bhool kar,
Desh ke gareebon ke naam kaarkhana laga de.
Saaqi jo pilaani hai to kuchh aisi pila de……

Aur rahi woh bad-amli daroga ki baat,
Woh desh waasiyon ki hifaazat mein apna thaana laga de.
Saaqi jo pilaani hai to kuchh aisi pila de……

Filmon ka adakaar aur cricket ka khilaadi,
Apni ada aur khel mein desh ko nazraana bana de.
Saaqi jo pilaani hai to kuchh aisi pila de……

Har mazhab ka waaiz kuchh aisi daleelen sunaaye,
Hindu musalmaan chhod, insaaniyat ko nishana bana de.
Saaqi jo pilaani hai to kuchh aisi pila de……

Khshhaali mere watan pe kuchh is tarah ho fidaa,
Ke gareebi aur laachari ko begaana bana de.

Saaqi jo pilaani hai to kuchh aisi pila de,
Jo hum sabako mere desh ka diwaana bana de.

© 2016, Sunbyanyname. All rights reserved.

You may also like

4 Comments