ZAMAANE KA EK AJAB ROOP AUR RANG

ज़माने का अजब रूप और रंग देखा है,
धूप और छाँव को मैंने संग देखा हैI

रिवाजों की जो हरदम हामी भरते थे,
हैरत से उनको बदलते ढंग देखा है।

ज़मीन पे जिनके पैर उठते ही ना थे,
आज उनको उड़ती पतंग देखा है।

वह जो बेकसी के आलम में पढ़े रहते थे,
उनके चेहरे पे ख़ुशी की उमंग को देखा है I

आज नज़दीकी दोस्त बने फिरते हैं जो,
कल उन्ही की मैदान – ऐ – जंग देखा है I

जशन – ऐ – महफ़िल जिनकी कभी ख़त्म न होती थी,
आज उनकी भी ज़िन्दगी को बेरंग देखा है I

शकील ठीक ही कहते थे, जाएंगे वह अकेले,
जिन्हें ज़िन्दगी के मेले में संग देखा है I

यह तो वक़्त वक़्त की बात है, रवि,
ज़माने का यह रूप और वह रंग देखा है I

Opening credits scene from 1948 movie Mela with Shakeel Badayuni's iconic title song
Opening credits scene from 1948 movie Mela with Shakeel Badayuni’s iconic title song

Zamane ka ajab roop aur rang dekha hai,
Dhoop aur chhanv ko maine sang dekha hai.

Riwaazon ki jo hardam haami bharte the,
Hairat se unako badalate dhung dekha hai.

Zameen pe jinke pair uthate hi na the,
Aaj unako udhati patang dekha hai.

Woh jo bekasi ke aalam mein padhe rehate the,
Unake chehre pe khushi ki umang ko dekha hai.

Aaj nazdeeki dost bane phirte hain jo,
Kal unhi ko maidan-e-jang dekha hai.

Jashn-e-mehfil jinaki kabhi khatm na hoti thi,
Aaj unaki bhi zindagi ko berang dekha hai.

Shakeel theek hi kehte the, jaayenge woh akele,
Jinhen zindagi ke mele mein sang dekha hai.

Yeh to waqt waqt ki baat hai, Ravi,
Zamane ka yeh roop aur woh rang dekha hai.

© 2016, Sunbyanyname. All rights reserved.

You may also like