PHIR BARSAAT CHALI AAYI

आज फिर भीगने का दिल करता है बरसात में,
कुछ शोख़ हवा चली है सुहानी रात में I

यादों की बूंदे दिल के आँगन में गिर रही हैं,
और दस्तक दे रही हैं देहलीज़-ऐ-जज़्बात पे I

मेरे रूखे जहान पे सावन को भी तरस आ गया,
लगता है रो रहा है वह भी मेरे हालात पे I

घने धुएं में रौशनी की किरण जगमगाई है,
कुछ और लौ बची है शमा-ए-हयात में I

सावन क्या आया, बस यूँ लगता है,
हल चल सी मच गयी है कायनात में I

हवाएं उनकी बज़्म से लायी हैं खुशबू,
उधर उठ के देखता हूँ बात बात पे I

सोचता हूँ, रवि, यह कहीं सरआब तो नहीं,
कुछ हकीकत तो होगी ख्याल-ए-करामात में I

Rain1

Aaj phir bheegne ka dil karta hai barsaat mein,
Kuchh shokh hawa chali hai suhaani raat mein.

Yaadon ki boonde dil ke aangan mein gir rahi hain,
Aur dastak de rahi hain dehleez-e-jazbaat pe.

Mere rookhe jahan pe sawan ko bhi taras aa gaya,
Lagta hai ro raha hai woh bhi mere halaat pe

Ghane dhuyen mein raushni ki kiran jagmagaayi hai,
Kuchh aur lau bachi hai shama-e-hayat mein.

Sawan kya aaya, bas youn lagata hai,
Hulchul si mach gayi hai kainaat main.

Hawaayen unaki bazm se laayi hain khushbu,
Udhar uthh ke dekhta hoon baat baat pe.

Sochata hoon, Ravi, yeh kahin saraab to nahin,
Kuchh haqeeqat to hogi khayaal-e-karamaat mein.

© 2016, Sunbyanyname. All rights reserved.

You may also like

2 Comments