MAIN KADAM KADAM PE HAARA

तुम रूठो तो मेरी गलती, मैं रूठूँ तो मेरी I
दोनों रुख़ से जीत हुई है, ऐ सनम अब तेरी I

जीत के तुझे वह मिल गया जो हार के मुझे मिल न पाया I
फिर भी लगता है तेरे दिल पे पढ़ा है कोई ग़म का साया I
तुम चाहो तो चाहत है, मैं चाहूँ तो भूल है मेरी I
दोनों रुख़ से जीत हुई है, ऐ सनम अब तेरी I

काश जो अब तुम समझ रही हो, वह पहले ही समझती I
कदम कदम पे बात बात पर मुझसे ना उलझती I
गाली गलोज और इल्ज़ामों की तुमने लगाई थी ढेरी I
दोनों रुख़ से जीत हुई है, ऐ सनम अब तेरी I

मैं मायूस उदास ज़रूर हूँ, लेकिन हूँ नहीं तनहा I
याद है मुझको संग बिताया हर एक अनोखा लम्हा I
मेरी मुहब्बत साथ रहती है, बनके याद सुनहरी I
दोनों रुख़ से जीत हुई है, ऐ सनम अब तेरी I

मुझे तुमसे कोई शिकवा नहीं, ना है कोई शिकायत I
इक तरफ़ा प्यार की, तेरी महफ़िल में थी रिवायत I
तुम्हें ज़िन्दगी की खुशियां मुबारक, मेरे लिए चोट है गहरी I
दोनों रुख़ से जीत हुई है, ऐ सनम अब तेरी I

इक डोर थी जो अब टूटने को है , सजाई थी ख़्वाबों की जन्नत I
इक सांस है जो अब झूटने को है, मांगी थी ज़िन्दगी की मन्नत I
तेरी कामयाबी पर, कबूल हो बधाई अब मेरी I
दोनों रुख़ से जीत हुई है, ऐ सनम अब तेरी I

(Pic courtesy: america.pink)

Tum rootho to meri galti, main roothun to meri,
Dono rukh se jeet hui hai, ai sanam ab teri.

Jeet ke tujhe woh mil gaya, jo haar ke mujhe mil naa paaya,
Phir bhi lagta hai tere dil pe padha hai koi gham ka saaya;
Tum chaaho to chaahat hai, main chaahun to bhool hai meri,
Dono rukh se jeet hui hai, ai sanam ab teri.

Kaash jo ab tum samajh rahi ho, wo pehle hi samajhati,
kadam kadam pe baat baat par mujhase na ulajhati.
Gaali galoz aur armaano ki tumane to lagaayi thi dheri,
Dono rukh se jeet hui hai, ai sanam ab teri.

Main maayus udhass zaroor hoon, lekin hoon nahin tanha,
Yaad hai mujhako sang bitaaya, har ek anokha lamha.
Meri mohabbat sang rehti hai, banake yaad sunehri,
Dono rukh se jeet hui hai, ai sanam ab teri.

Mujhe tumase koi shikwa nahin, naa hai koi shikaayat,
Ik tarfa pyaar ki, teri mehfil mein thi riwaayat.
Tumhen zindagi ki khushiyan mubarak, mere liye chot hai gehri,
Dono rukh se jeet hui hai, ai sanam ab teri.

Ik dore thi jo ab tootne ko hai, sajaayi thi khwaabon ki jannat,
Ek saans hai jo ab jhootne ko hai, maangi thi zindagi ki mannat.
Teri kamyaabi pe, ai dost, qabool ho badhaayi meri,
Dono rukh se jeet hui hai, ai sanam ab teri.

© 2016, Sunbyanyname. All rights reserved.

You may also like

2 Comments