CHALO INTEZAAR KARTE HAIN

तू भी देखना एक ऐसा भी दिन आएगा,
आंसुओं से मेरे तेरा दिल पिघल जाएगा
मेरी ना श से तुझे कोई शिक्वा ना होगा
तेरे दिन तो क्या जहान संवर जाएगा

प्यार और इश्क़ मुझे करना ही ना था
घुट घुट रोज़ मुझे मरना ही ना था
अब सोचता हूँ क्यों चला गया वहां
तेरी राहों से मुझे गुज़रना ही ना था

सोचा था ज़िन्दगी का हमसफ़र मिला है
मेरी तनहा रातों का सहर मिला है
हम जिसे पीते रहे दवा जान के, ऐ दिल,
अब पता चला के ज़हर मिला है

खैर ग़म- ऐ-इश्क़ की कोई तो होगी मंज़िल
यह बेवफा निकली, यह हर वक़्त रही संगदिल
यह ज़िन्दगी तो रो रोके गुज़ार दी हमने
आने वाली ज़िन्दगी शायद ना हो मुश्किल

चलो इंतजार करते है! चलो इंतज़ार करते हैं!
ठोकर खा चुके हैं फिर भी प्यार करते हैं
तेरे वादे पे तो तमाम उम्र गुज़र गयी लेकिन
हम अब मौत की वफ़ा का ऐतबार करते हैं|

Intezaar

Tu bhi dekhna ek aisa bhi din aayega,
Aansuyon se mere tera dil pighal jaayega
Meri naa sh setujhe koi shikwa na hoga
Tere din to kyaa jahan sanwar jaayega

Pyaar aur ishq mujhe karna hi na tha
Ghut ghut roz mujhe marna hi naa tha
Ab sochata hoon kyun chala gaya wahan
Teri raahon se mujhe guzarna hi naa tha

Socha tha zindagi ka hamsafar mila hai
Meri tanha raaton ka sehar mila hai
Ham jise peete rahe dawa jaan ke ai dil,
Ab pata chal ke zehar mila hai

Khair gham-e-ishq ki koi to hogi manzil
Yeh bewafa nikali, yeh har waqt rahi sangdil
Ye zindagi to ro ro ke guzaar di hamane
Aane waali zindagi shaayad naa ho mushqil

Chalo intezaar karte hain! Chalo intezaar karte hain!
Thhokar kha chuke hain phir bhi pyaar karte hain
Tere waade pe to tamaam umr guzr gayi lekin
Hum ab maut ki wafa ka aitbaar karte hain|

© 2016, Sunbyanyname. All rights reserved.

You may also like