EK AUR NAYA SAAL AA RAHA HAI

एक और नया साल आ रहा है,
वादी – ए – दिल पे भंवरा मंडरा रहा है I

नया वादा – ए – आरज़ू है, नया दिल – पसंद है,
खुशियों के ख़ज़ाने भर के ला रहा है I

यादों के जज़ीरे खड़ा कर गया जो,
वह माज़ी के धुंदले में कदम बढ़ा रहा है I

“अलविदा दोस्तों, इक रोज़ मैं भी नया था यहाँ”,
यह कह के उदास ओ तनहा वह जा रहा है I

दुनिया में हर नयी चीज़ का यही तो है अंजाम,
बुत – तराश अपनी ही तख़लीक़ पे मुस्करा रहा है I

लाल ओ गौहर तख़्त – ए – ताऊस किस के रहें हैं हरदम,
जो आ रहा था कल, आज वह भी जा रहा है I

जनाज़ा – ए – क़दीम है पर माहौल – ए – जष्न है,
यही ज़िन्दगी का पहलू हमें समझा रहा है I

ज़िन्दगी में नए की तमन्ना बेशक करना, ऐ रवि,
पर ना भूलना कभी जो पुराना सिखा रहा है I

image

Ek aur naya saal aa raha hai,
Waadi-e-dil pe bhanvra mandra raha hai

Naya vaada-e-aarzoo hai, naya dil-pasand hai,
Khushiyon ke khazaane bhar ke laa raha hai

Yaadon ke jazeere khada kar gaya jo,
Woh maazi ke dhundle mein kadam badha raha hai

“Alvida dosto, ik roz main bhi naya tha yahan”,
Yeh keh ke udaas o tanha woh jaa raha hai

Duniya mein har nayi cheez ka yehi to hai anjaam,
But-taraash apani hi takhleek pe muskara raha hai

Laal o gauhar takht-e-taa.uus kis ke rahen hain hardam,
Jo aa raha tha kal, aaj woh bhi jaa raha hai

Janaaza-e-qadeem hai par mahaul-e-jashn hai
Yahi zindagi kaa pehlu hamen samajha raha hai

Zindagi mein naye ki tamanna beshaq karna, ai Ravi,
Par naa bhoolana kabhi jo maazi sikha raha hai

© 2015, Sunbyanyname. All rights reserved.

You may also like

11 Comments

  1. Very well expressed,
    but
    The 2015 had made us fulfilled with Love n Wiser with
    Lessons and of course, a year closer to the Supreme Lord ….