UNAKE KHAYAAL DIL MEIN MEHMAAN BAN KE REHATE HAIN

उनके ख़याल दिल में मेहमान बन के रहते हैं,
क्या क्या सितम हम उनके लिए सुबह ओ शाम सहते हैंI

मैंने तो घर खाली करने का notice भी दे दिया,
“दो रोज़ और रहेंगे” हर बार यही कहते हैंI

सूखी वीरान बस्ती की शिकायत वह करते हैं,
कैसे कहूँ के अश्क़ मेरे ज़ार ज़ार बहते हैं?

दिल के गरीबखाने पे ताला लगा दूँ मैं क्या?
पर उनहे कैसे बेदखल करूँ जो पहले ही से रहते हैं?

मेरे ही घर में मुझको अब पनाह नहीं कबूल,
मेरे ही दिल से मुझको जाने के लिए कहते हैंI

No Room in Heart

Unake khayaal dil mein mehmaan ban ke rehate hain,
Kyaa kyaa sitam hum unake liye subah o shaam sehte hain.

Maine to ghar khaali karne kaa notice bhi de diya,
“Do roz aur rahenge” har baar yahi kehte hain.

Sookhi veeraan basti ki shikaayat woh karte hain,
Kaise kahun ke ashq mere zaar zaar behte hain?

Dil ke gareebkhaane pe taala laga doon main kyaa,
Par unahe kaise bedakhal karun jo pehle hi se rehate hain.

Mere hi ghar mein mujhako ab panaah nahin kabool,
Mere hi dil se mujhako jaane ke liye kehte hain.

© 2015, Sunbyanyname. All rights reserved.

You may also like