MERI DUNIYA HI AUR HAI

 

दुनिया उनके लिए नहीं जो दुनिया से डरते हैं,
दुनिया उनके लिए नहीं जो रह रह के मरते हैं,
दुनिया उनके लिए नहीं जो दुनिया का दम भरते हैं,
दुनिया उनके लिए नहीं जो यह करते हैं और वह करते हैं.

दुनिया उनके लिए नहीं जो दुनिया से दौड़ते हैं दूर
दुनिया उनके लिए नहीं जो जीने से हैं मजबूर
दुनिया उनके लिए नहीं जो अपने आप में हैं मग्रूर
दुनिया उनके लिए नहीं जिनका दुनिया नहीं है दस्तूर.

दुनिया उनके लिए नहीं जिन्हें दुनिया से है रंजिश
दुनिया उनके लिए नहीं जिन्हे दुनियादारी लगती है बंदिश
दुनिया उनके लिए नहीं जिन्हे हर बात में लगती है साजिश
दुनिया उनके लिए नहीं जो करते हैं दुनिया की गुज़ारिश

दुनिया तो सिर्फ बेखबर मत्वालों के लिए है,
हर इक लमहा शान में जीने वालों के लिए है
जो हर बात दिल पे न लें ऐसे दिल्वालों के लिए है
हर हाल में मुत्मैन रेहने वालों के लिए है

दुनिया उनकी है जो वक्त की रफ्तार समझते हैं
हर इन्कार को जो दुनिया का ईकरार समझते हैं
जंग – ओ – जदल को भी जो प्यार समझते हैं
बेकार कचरे को जो हुसन – ए – शिन्गार समझते हैं

दुनिया में रह के जो जानते हैं दुनिया का सबब
दुनिया उन्ही को करती है झुक झुक के अदब
हम तो हैरान हैं, ये कैसा है गज़ब :
हस्ती उन्ही की है जो दुनिया में हैं जज्ब

फिर भी:

क्या करेंगे दुनिया में दुनिया के हो के ?
जल जल के मर के, घुट घुट के रो के,
नंगे ज़खम अपने आंसुयों से धो के
टूटे हुए जज्बात नज्मों में पिरो के

देख लो ए दुनिया, हम दुनिया को नहीं मानते,
तुम्हारे बनाए कानून हम नहीं पहचानते
चढा दो हमें फाँसी, हम यह नहीं जानाते:
कयुं दुनिया वाले रब्ब ओ इमान को नहीं पहचानते?

(Pic courtesy: paulzef.deviantart.com)
(Pic courtesy: paulzef.deviantart.com)

Duniya unake liye nahin jo duniya se darte hain,
Duniya unake liye nahin jo reh reh ke marte hain,
Duniya unake liye nahin jo duniya ka dam bharte hain,
Duniya unake liye nahin jo yeh karte hain aur woh karte hain.

Duniya unake liye nahin jo duniya se bhaagte hain door
Duniya unake liye nahin jo jeene se hain majboor
Duniya unake liye nahin jo apane aap mein hain magroor
Duniya unake liye nahin jinaka duniya nahin hai dastoor

Duniya unake liye nahin jinhen duniya se hai ranjish
Duniya unake liye nahin jinhe duniyaadari lagati hai bandish
Duniya unake liye nahin jinhe har baat mein lagati hai saazish
Duniya unake liyer nahin jo karte hain duniya ki guzarish

Duniya to sirf bekhabar matwaalon ke liye hai,
Har ik lamhaa shaan mein jeene waalon ke liye hai
Jo har baat dil pe na lein aise dilwaalon ke liye hai
Har haal mein mutmain rehane waalon ke liye hai

Duniya unaki hai jo waqt ki raftaar samajhate hain
Har inkaar ko jo duniya ka ikraar samajhate hain
Jang-o-jadal ko bhi jo pyaar samajhate hain
Bekaar kachre ko jo husn-e-shingaar samajhate hain

Duniya mein reh ke jo jaante hain duniya ka sabab
Duniya unhi ko karti hai jhuk jhuk ke adab
Ham to hairaan hain, ye kaisa hai ghazab:
Hasti unhi ki hai jo duniya mein hain jazb

Phir bhi:

Kyaa karenge duniya mein duniya ke ho ke?
Jal jal ke mar ke, ghut ghut ke ro ke,
Nange zakham apne aansuyon se dho ke
Toote huye jazbaat nazmon mein piro ke

Dekh lo ai duniya, ham duniya ko nahin maanate,
Tumhaare banaye kanoon ham nahin pehchante
Chadha do hamen faansi, ham yeh nahin jaanate
Kyun duniya waale rabb o imaan ko nahin pehchaante?

Ishq mein jaan dene waalon ke liye hai

© 2015, Sunbyanyname. All rights reserved.

You may also like