TU

एक मुद्दत से तमन्ना थी जिसे कहने की,
बात वो अब भी मैं कह नहीं पायूँगा सनम,
ज़िंदा हैं अश्क़ अब भी जो बहाये मैंने,
मैं उन अश्कों मैं कभी बह नहीं पायूँगा सनम I

याद आएँगी मुझे खामोश ओ मजबूर रातें,
अपने ही आप से मैं करता रहा था बातें
सोचा था अब तेरे दीदार को ना तरसूँगा कभी
जो न मुझे मिल सका उस प्यार को ना तरसूँगा कभी
सोच कर फिर वही मायूस सा हो कर सोचा
बिन तुम्हारे मैं रह भी ना पायूँगा सनम
वो बात अब भी मैं कह नहीं पायूँगा सनम I

मेरे बारे में कभी तुमने भी ये सोचा होगा
ये भी एक और दीवाना है दीवानो की तरह
मैं जो रौशन हूँ सियाह रात में शमा की तरह
मेरा परवाना है यह भी परवानो की तरह
सोच कर तूने इतना तो सोचा होता:
इतने सितम मैं सह भी ना पायूँगा सनम
वो बात अब भी मैं कह नहीं पायूँगा सनम I

खुद को मुझसे इतना भी ना तू दूर समझ
अपने परवाने को इतना भी ना मजबूर समझ
मैं अगर चाहूँ तो इतनी भी है ताक़त मुझ में:
याद को तेरी मैं इक तू ही बना सकता हूँ
इक तो तू है जो मेरी हर बात को समझे वहशत
अपनी तू को मैं हर इक बात सुना सकता हूँ
तुझको सजाना चाहूँ तो ज़ुल्फ़ भी छूने नहीं दे
अपने अरमानो से तेरा हर अंग सजा सकता हूँ
गम नहीं अब जो तू लाख भी रूठे मुझसे
अपनी तू को मैं जब चाहे मना सकता हूँ I

(Pic courtesy: www.dreamtime.com)
(Pic courtesy: www.dreamtime.com)

Ek muddat se tamanna thi jise kehane ki,
Baat wo ab bhi main keh nahin paayunga sanam,
Zinda hain ashq ab bhi jo bahaaye maine,
Main un ashqon main kabhi beh nahin paayunga sanam.

Yaad aayengi mujhe khaamosh o majbuur raaten
Apane hi aap se main karta raha tha baaten
Socha tha ab tere deedaar ko naa tarsuunga kabhi,
Jo naa mile mil saka us pyaar ko naa tarsuunga kabhi.
Soch kar phir wohi mayuus saa ho kar socha:
Bin tumhaare main reh bhi naa paayunga sanam,
Wo baat ab bhi main keh nahin paayunga sanam.

Mere bare mein tum ne bhi ye socha hoga,
Yeh bhi ik aur deewana hai deewano ki tarah;
Main jo raushan hoon siyaah raat ki shamaa ki tarah,
Mera parwaana hai yeh bhi parwaano ki tarah.
Soch kar tune itana to socha hota,
Itane sitm main she bhi naa paayunga sanam,
Wo baat ab bhi main keh nahin paayunga sanam.

Khud ko mujh se itana bhi naa tu door samajh,
Apane parwaane ko itana bhi naa majbuur samajh.
Main agar chaahun to itani bhi hai taaqat mujh mein,
Yaad ko teri main ik tu hi bana sakata hoon.
Ik to tu hai jo meri har baat ko samajhe vehshat,
Apani us tu ko main har ik baat suna sakata hoon.
Tujhako sjaana chaahun to zulf bhi chhune nahin de,
Apane armaano mein tera har ang saja sakata hoon.
Gam nahin ab jo agar laakh bhi roothe mujh se,
Aapni tu ko main jab chaahe manaa sakata hoon.

© 2015, Sunbyanyname. All rights reserved.

You may also like