NADAAN HI RAHE HUM

 

दुनिया में रह के भी दुनियादारी नहीं सीखी I
होशियार करते रहे वो, होशियारी नहीं सीखी II

आरज़ू – ए – इश्क़ ने हर बार मुझे किया मायूस I
बेक़रार होके भी बेक़रारी नहीं सीखी II

हमसे तंग – हाल तो कोई भी ना था ज़माने में I
बेहाल होके भी हमने लाचारी नहीं सीखी II

मुक़ाब्ले की जिदो जेहद में खोये थे सारे दोस्त I
सब जान के भी हम ने खुद – दारी नहीं सीखी II

तेरी बेवफाई जब हद्द से गुज़र गयी I
उस वक़्त भी हमने बेवफादारी नहीं सीखी II

शरम्सार तालुक़ – ए – मोहब्बत में हुये हर बार I
अफसोस, फिर भी हमने शरम्सारी नहीं सीखी II

तूने हुस्न – ए – नज़र पे पेहरे लगा दिये है I
हमने खज़ाना – ए – अश्क़ की भी पेहरेदारी नहीं सीखी II

जबसे तेरे इश्क़ में मरने का मिला है काम I
खुदा गवाह है हमने बेरोज़गारी नहीं सीखी II

image

Duniya mein reh ke bhi duniyadaari nahin seekhi,
Hoshiyaar karte rahe woh, hoshiyaari nahin seekhi.

Aarzoo-e-ishq ne har baar mujhe kiya mayuus,
Beqraar hoke bhi beqraari nahin seekhi.

Hamase tang-haal to koi bhi na tha zamaane mein,
Behaal hoke bhi hamane laachaari nahin seekhi.

Muqaable ki jido jehad mein khoye the saare dost,
Sab jaan ke bhi hamane khud-daari nahin seekhi.

Teri bewafai jab hadd se guzr gayi,
Us waqt bhi hamane bewafadaari nahin seekhi.

Sharamsaar taluq-e-mahabbat mein huye har baar,
Afsos, phir bhi hamane sharamsaari nahin seekhi.

Tune husn-e-nazar pe pehre laga diye hain,
Hamane khazaana-e-ashq ki bhi pehredaari nahin seekhi.

Jabase tere ishq mein marne ka mila hai kaam,
Khuda gavaah hai hamane berozgaari nahin seekhi.

© 2015, Sunbyanyname. All rights reserved.

You may also like