MAIN THAK GAYA HOON

थक गया हूँ अब मैं ज़िन्दगी के झमेले में
गुम हो गया हूँ सरापर दुनिया के मेले में
मेरा वजूद क्या है मेरी हक़ीक़त क्या है?
पूछता हूँ अपने आप से यह सवाल अकेले में.

कोई जवाब नहीं आता सब धुंधला दिखता है
कौडी के बदले यहाँ इंसान बिकता है,
क्या मैं भी ऐसी “इंसानियत” की शख्सियत हूँ?
जो हो गुनाहगार पर मासूम लिखता है?

मुझे याद है अब भी वह सुहाना बचपन
वह हंसना खेलना वह लापरवाह लड़कपन
ज़िन्दगी ढूँढ़ते ढूँढ़ते कभी सोचा ही न था
वही तो था ज़िन्दगी का खूबसूरत अपनापन.

ज़िन्दगी ने ला दिया अब उस मुकाम पे
जुर्माना लग गया है अब किसी भी आराम पे
कभी जिस्म थक गया है कभी दिमाग हुआ है बंजर
तरस आ रहा है दिल – ऐ – नाकाम पे.

काश किसी जगह मिल जाए इस दिल को सुकून
आँख बंद हो जाए सर्द हो जाए ये गर्म खून
सांस थम जाए उभरते जज़्बात खामोश हो जाएँ
क़त्ल हो जाए दिल ओ दिमाग का जूनून.

बहुत देख लिया बहुत सोच लिया बहुत जी लिया
ग़म का जाम सुबह शाम पी लिया
फरेब – ऐ – नज़र से हयात बेइत्मेनान है
कांपते होंठों को मैंने कस के सी लिया.

(Pic courtesy: insideechenrysbrain.typepad.com)
(Pic courtesy: insideechenrysbrain.typepad.com)

Thak gaya hoon ab main zindagi ke jhamele mein
Gum ho gaya hoon saraapar duniya ke mele mein
Mera wajood kya hai meri haqeeqat kya hai
Poochhta hoon apne aap se yeh sawaal akele mein.

Koi jawaab nahin aata sab dhundhla dikhta hai
Kaudi ke badle yahan insaan bikta hai,
Kya main bhi aisi “insaaniyat” ki shakhsiyat hoon?
Jo ho gunaahgaar par maasoom likhta hai?

Mujhe yaad hai ab bhi wo suhaana bachpan
Wo hansna khelna wo laaparwaah ladhakpan
Zindagi dhoondte dhoondte kabhi socha hi naa tha
Wohi to tha zindagi ka khoobsurat apnaapan.

Zindagi ne laa diya ab us mukaam pe
Jurmaana lag gaya hai ab kisi bhi aaraam pe
Kabhi jism thak gaya hai kabhi dimaag hua hai banjar
Taras aa raha hai dil-e-nakaam pe.

Kaash kisi jagah mil jaaye is dil ko sukoon
Aankh band ho jaaye sard ho jaaye yeh garm khoon
Saans tham jaaye ubharte jazbaat khaamosh ho jaayen
Qatl ho jaaye dil o dimaag kaa junoon.

Bahut dekh liya, bahut soch liya, bahut jee liya
Gham kaa jam subah sham pi liya
Fareb-e-nazar se hayaat beitmaynan hai
Kaampte hontho ko maine kas ke si liya.

© 2015 – 2016, Sunbyanyname. All rights reserved.

You may also like

6 Comments

  1. Dear

    Some real fatigue from city life.

    Perhaps time has come to analyse yourself and Switch to regular meditation – you will come out from “Thak Gya Hoon…..” and will get lasting peace…. with nature around.

    Regards