WAQT GAYA, WOH BHI GAYE

चाँद सितारों की तमन्ना ना करते थे हम,
सुबह शाम बस तुझ ही पे मरते थे हम.

खुदा और शैतान हमारे नज़दीक ना थे,
इक तेरी रंजिश ओ बे – इत्मेनानी से ही डरते थे हम.

सांस आती थी या नहीं, इसका हमें होश ना था,
हर वक़्त तेरे दम की आहें भरते थे हम.

हमारी ज़िन्दगी का तुझको तो एहसास ना था ,
तुझको मिलने के क्या क्या बहाने करते थे हम.

दिल की रफ़्तार बेचैनी की हद्द पार करती थी,
जब तेरी बज़्म ओ दुनिया से गुज़रते थे हम

तन्हाई में अब बेकस ओ बेज़ुबान बैठे हैं,
तेरे आगोश में बन बन के संवरते थे हम.

Lonely Man1

Chaand sitaaron ki tamanna naa karte the ham,
Subah shaam bas tujh hi pe marte the ham.

Khuda aur shaitaan hamaare nazdeek naa the,
Ik teri ranjish o be-itmaynani se hi darte the ham.

Saans aati thi ya nahin, iska hamen hosh naa tha,
Har waqt tere dam ki aahen bharte the ham.

Hamaari zindagi kaa tujhako to ehsaas naa tha,
Tujhako milane ke kyaa kyaa bahaane karte the ham.

Dil ki raftaar bechaini ki hadd paar karti thi,
Jab teri bazm o duniya se guzarte the ham

Tanhaai mein ab bekas o bezubaan baithe hain,
Tere aagosh mein ban ban ke sanwarte the ham.

© 2015 – 2016, Sunbyanyname. All rights reserved.

You may also like