PHIR YAAD NE TADPAAYA…..

आज फिर तसव्वर में उनका दीदार हो गया
खुदा की रहनुमाई पे फिर से ऐतबार हो गया
ना मेरे करीब हैं वो ना मुझसे दूर रहते हैं
फिर से दिल की अफरा तफरी का आसार हो गया

ज़िन्दगी सेहरा बनी थी उनकी अलैहदगी में
उनके मिलते ही आलम गुलज़ार हो गया
हमने माना करामात-ऐ- ख्याल ही था लेकिन
चंद लम्हों के लिए दिल खुशगवार हो गया

मुझे यकीन है तग़ाफ़ुल मुझे वह नहीं करते
उनकी खामोशी से ही इश्क़ का इज़हार हो गया
हैरत तो उनको खूब होगी मेरे अंदाज़-ऐ-वफ़ा पे
अब मुझे अपनी तन्हाई से भी प्यार हो गया

(Pic courtesy: www.flickr.com)
(Pic courtesy: www.flickr.com)

Aaj phir tasuvvar mein unaka deedaar ho gaya
Khuda ki rehnumaai pe phir pe phir se aitbaar ho gaya
Naa mere kareeb hain vo naa mere door rehate hain
Phir se dil ki afraa tafri kaa aasaar ho gaya.

Zindagi sehra bani thi unaki alahaidgi mein
Unake milate hi aalam gulzar ho gaya
Hamane maana ke karaamaat-e-khayaal hi tha lekin
Chand lamhon ke liye dil khushgavaar ho gaya.

Mujhe yakeen hai taghaful mujhako woh nahin karate
Unaki khaamoshi se hi ishq kaa izhaar ho gaya
Hairat to unako khoob hogi mere andaaz-e-wafa se
Ab mujhe apni tanhaayi se bhi pyaar ho gaya.

© 2015, Sunbyanyname. All rights reserved.

You may also like