ZINDAGI AB BHI HAI LEKIN…..

ज़िन्दगी तब भी थी
ज़िन्दगी अब भी है
तब नया सूरज उगा था
तब जलते चिरागों की लौ में
अँधेरे दूर भागते थे
अब रौशनी को तरसते रात के साये
 बढ़ते ही जा रहे हैं
सबेरा दूर है, बहुत दूर
ज़िन्दगी तब भी थी
ज़िन्दगी अब भी है

 

ज़िन्दगी तब भी थी
ज़िन्दगी अब भी है
चमन में फूलों की खुशबु से
फ़िज़ाएं मदहोश थी तब
अब मुरझाये फूल गिरते हैं मज़ार पे
सूखे पत्तों के संग
लहर आई थी चले गयी
हम साहिल पे अब भी खड़े हैं इंतेज़्ज़ार में
ज़िन्दगी तब भी थी
ज़िन्दगी अब भी है

 

ज़िन्दगी तब भी थी
ज़िन्दगी अब भी है
तेरे क़दमों की आहट से
बंधे थे मेरे दिल के तार
तेरी साँसों में तब था
मेरे ही प्यार का खुमार
अब खाली पैमानों की बज़्म में
हम प्यासे खड़े हैं
ज़िन्दगी तब भी थी
ज़िन्दगी अब भी है

 

ज़िन्दगी तब भी थी
ज़िन्दगी अब भी है
तब हम मुन्तज़िर थे
तेरे अहद-ओ-पैमान से
अब नींद से जागी हमारी आँख
मौत का नज़ारा ढूंडती है
काश उस ज़िन्दगी को रोक लेते वहीँ
जो अब हर कहीं जिन्दगी का सहारा ढूंडती है
ज़िन्दगी तब भी थी
ज़िन्दगी अब भी है

 

ज़िन्दगी तब भी थी
ज़िन्दगी अब भी है
फरक सिर्फ इतना है:
तब सब कुछ हमारे आगे था
 अब सब कुछ हमारे पीछे है
तब हम कहते थे, “यही है ज़िन्दगी”
और अब? अब सवाल ही सवाल है:
“बस यही है ज़िन्दगी, क्या?”
ज़िन्दगी तब भी थी
ज़िन्दगी अब भी है

forest-swing-autumn-dry-leaves-tree_13108

Zindagi tab bhi thi
Zindagi ab bhi hai
Tab naya suraj uga tha
Tab jalate chiraagon ki lau mein
Andhere door bhaagte the
Ab raushni ko tarsate raat ke saaye
Badate hi ja rahe hain
Sabera door hai, bahut door
Zindagi tab bhi thi
Zindagi aaj bhi hai

Zindagi tab bhi thi
Zindagi aaj bhi hai
Chaman mein phoolon ki  khushbu se
Fizayen madhosh thi tab
Ab murjhaye phool girte hain mazaar pe
Sukhe patton ke sang
Lehar aayi thi chale gayi
Hum saahil pe ab bhi khade hain intezzaar mein
Zindagi tab bhi thi
Zindagi aaj bhi hai

Zindagi tab bhi thi
Zindagi aaj bhi hai
Tere kadmon ki aahat se
Bandhe the mere dil ke taar
Teri saanson mein tab tha
Mere hi pyaar ka khumaar
Ab khaali paimaano ki bazm mein
Ham pyaase khade hain
Zindagi tab bhi thi
Zindagi aaj bhi hai

Zindagi tab bhi thi
Zindagi ab bhi hai
Tab ham muntazir the
Tere ahad-o-paimaan se
Ab neend se jaagi hamaari aankh
Maut ka nazaara dhoondati hai
Kaash us zindagi ko roke lete wahin
Jo ab har kahin zindagi ka sahaara dhoondati hai
Zindagi tab bhi thi
Zindagi aaj bhi hai.

Zindagi tab bhi thi
Zindagi ab bhi hai
Fark sirf itana hai:
Tab sab kuchh hamaare aage tha
Ab sab kuchh hamaare peechhe hai
Tab ham kehte the, “Yehi hai zindagi”.
Aur ab? Ab sawaal hi sawaal hai:
“Bus yehi hai zindagi, kyaa?”
Zindagi tab bhi thi
Zindagi ab bhi hai.

© 2014, Sunbyanyname. All rights reserved.

You may also like

5 Comments

  1. Jeene ki koshish tujhse seekhi thi Zindagi.
    jssne ki tamana tujhse paayi thi Zindagi
    humraah banke saath chalte rahe
    manzil pahunchkar dekha to tu saath nahin thi Zindagi

    1. Bahut khoob Evani ji. Zindagi ke baare likhane mein mere pasandeeda shayar Shakeel Badayuni ka jawaab nahin:

      “Hongi yahi bahaaren, ulfat ki yaadgaaren,
      Bigadegi aur banegi, duniya yehi rahegi;
      Honge yahi jhamele,
      Ye zindagi ke mele duniya mein kam na honge,
      Afsos ham na honge”.

  2. Ek muamma hai na samajhne ka na sajhaane ka,
    Zindagi Kya hai, bus Khwab kisi deewane ka !

    इक मुअम्माँ है न समझने का न समझाने का,
    ज़िंदगी क्या है, बस ख़्वाब किसी दीवाने का।