KUCHH TO HAI

कुछ नहीं भूला
कुछ नहीं खोया
कुछ था भी नहीं
कुछ है भी नहीं
ओस कि बूँद थी क्या
या उड़ता हुआ गुबार?
हवा के झोंके की
अपनी कोई हस्ती है क्या?
ख्वाब था
ख्वाब है
हमें अपनी खबर न थी
उन्हें मेरी खबर न थी
तिनकों के आशियाँ में
बस्ते थे हम, और अब
यादों के धुंदले साये में
अब और ठिकाना ढूँढ़ते हैं
ये धुएं के महल
ये गहरे अँधेरे
ये वीरान मरहले
ये हैं मेरे हमसफ़र
मेरे हमदर्द मेरे अपने
कौन छीनेगा इन्हे मुझसे?
शुक्र है तेरी मुहब्बत में
कुछ तो मिला है
कुछ तो बचा है

Smoke Plume

Kuchh nahin bhoola
Kuchh nahin khoya
Kuchh tha bhi nahin
Kuchh hai bhi nahin.
Ose ki boond thi kyaa
Ya udata hua gubaar?
Hawa ke jhonke ki
Apni koi hasti hai kyaa?
Khwaab tha
Khwaab hai
Hamen apni khabar na thi
Unhe meri khabar na thi.
Tinako ke aashiyaan mein
Baste the ham, aur ab hain
Yaadon ke dhundle sayon mein.
Ab aur dhikaana dhoondte hain
Ye dhuyen ke mahal
Ye gehre andhere
Ye viraan marhale.
Yehi hain mere hamsafar
Mere hamdard, mere apne.
Kaun chheenega inhen mujhase?
Shukr hai teri muhabbat main
Kuchh to apna mila hai
Kuchh to apna bacha hai.

© 2014, Sunbyanyname. All rights reserved.

You may also like

1 Comment