GAREEB AUR ABLA KAUN?

मेरे जज़्बात मेरे दिल के आँगन में नंगे खेलते हैं,
मुझे अकेला पा के वह खूब मुझे छेड़ते हैं,
“पैदा ही ऐसे हुई थी या बन गयी हालात में?
क्या पाया तूने अपने बचपन के हसीन ख्वाब में?”

 

“एक तू औरत है, और वह भी गरीब है,
दोनों का पैदा होना इस मुल्क में बदनसीब है,
कभी भी कोई भी तेरी इज्ज़त का हो सकता है खरीद-दार,
इधर खड़ा है दरोगा, उधर बैठा है ज़मींदार”

 

ऐसा लगता है बारूद के मैदान से गुज़रना है तुझे,
या हर रोज़ केले के छिलके पे फिसलना है तुझे
हैवान ही हैवान हैं, शैतान ही शैतान हैं,
ईमान के रखवाले भी दिखते यहाँ बेइमान हैंI

 

इक छोटे मेमने को जैसे जंगले पार जाना हो,
खूंखार भेड़ियों ने उसे जिंदा या मार खाना हो,
खेलना उछलना क्या मेमने का हक नहीं है?
क्या Jungle Rule सिर्फ जंगल तक नहीं है?

 

अबला हूँ, गरीब हूँ, नादान हूँ, मजबूर हूँ,
फिर भी मैं अपने माँ बाप की आँख का नूर हूँ,
क्या वह गरीब नहीं जिन्हें नहीं मिली इंसानियत की दौलत?
क्या वह अबला नहीं जिनकी मर्दानगी बन गयी है वेह्शत?

 

वह जो हर दम अपनी हबस के रहते हैं गुलाम,
कौन करेगा उनकी ताक़त को सलाम?
वह असल में कमज़ोर और गरीब हैं,
हमारे मुल्क, सोहबत और रिवायत के रकीब हैंI

 

मेरे जैसी औरतें लक्ष्मी, सीता, दुर्गा और सरस्वती बनी,
पर समाज के हाथों में वह सती बनी,
इक नया सूरज निकलेगा बदलेगा हमारा नसीब,
फिर देखेंगा कौन रहेगा अबला और गरीबI

 

दौर बदलेगा मेरी नाज़ुक रगें कहती हैं,
सदियों से बुजदिल मर्दों का दिया ये सहती हैं;
जल्द ही इक ऐसा तूफ़ान आएगा
उनकी झूटी ताक़त और शान बहा ले जाएगा

 

मेरा इक रूप है महाकाली
जिसका कोई वार ना जाए खली
शिव भी शव हैं शक्ति के बगैर
जनमा है तुम्हें मैंने अब मौत की मनाओ खैर

 

MAHAKALI

 

Mere jazbaat mere dil ke aangan mein nange khelte hain,
Mujhe akela paa ke woh khoob mujhe chhedte hain,
“Paida hi aise hui thi yaa ban gayi halaat se?
Kya payaa toone apne bachpan ke hasin khwaab mein?”

 

“Ek tu aurat hai woh bhi gareeb hai,
Dono kaa paida hona is mulk mein badnaseeb hai,
Kabhi bhi koi bhi teri izzat ka ho sakta hai khareed-daar,
Idhar khada hai daroga, udhar baitha hai zamindaar.”

 

Aisa lagta hai barood ke maidan se guzarna hai tujhe,
Yaa har roz kaile ke chhilke pe fisalana hai tujhe
Haiwaan hi haiwaan hain, shaitaan hi shaitaan hain,
 Imaan ke rakhwaale bhi dikhate yahan beimaan hain

 

Ik chhote memne ko jaise jungle paar jaana ho,
Khunkhaar bhediyon ne use zinda yaa maar khana ho,
Khelna uchhalna kya memne ka haq nahin hai?
Kya Jungle Rule sirf Jungle tak nahin hai?

 

Abla hoon, gareeb hoon, nadaan hoon, majboor hoon,
Phir bhi main apne maa baap ki aankh ka noor hoon.
Kya woh gareeb nahin jinhe nahin mili insaaniyat ki daulat?
Kya woh abla nahin jinaki mardaangi ban gayi hai vehshat?

 

Woh jo har dam apni habas ke rehte hain gulaam,
Kaun karega unaki taaqat ko salaam?
Woh asal mein kamzor aur gareeb hain,
Hamare mulk, sohbat aur rivaayat ke rakeeb hain

 

Mere jaisi aurten Lakshmi, Sita, Durga aur Saraswati bani,
Per samaaj ke haathon mein woh sati bani
Ik naya sooraj nikalega badlega hamaara neseeb
Phir dekhenga kaun rahega abla aur gareeb

 

Daur badlega meri naazuk ragein kehati hain
Sadiyon se buzdil mardon ka diya ye sehati hain
Jald hi ik aisa toofaan aayega
Unaki jhooti taqat aur shaan baha le jaayega

 

Meraa ik roop hai Mahakali
Jisaka koi vaar naa jaaye khali
Shiva bhi Shav hain Shakti ke bagair
Janama hai tumhein maine ab maut ki manao khair

© 2013, Sunbyanyname. All rights reserved.

You may also like